सीबीएसई के 10वीं एवं 12वीं के रिजल्ट आ चुके हैं ।सीबीएसई के 18,73,015 बच्चों ने भाग लिया जिसमें 90.46% बच्चे पास हुए। तथा 12वीं के 11,92,961 बच्चों ने परीक्षा में भाग लिया, जिसमें 88.78% बच्चे 12वीं कक्षा की बात करें तो 90 परसेंट से अधिक अंक लाने वाले बच्चों की संख्या 157934 है। वही 95% से अधिक अंक लाने वालों की संख्या 38686 है जो टोटल के 3.24% है।

वही पूरे देश में अलग-अलग राज्यों के अलग-अलग बोर्ड की परीक्षाओं में लगभग डेढ़ करोड़ बच्चों ने परीक्षाएं दी जिसका अगर 2% प्रतिभावान बच्चों की संख्या को जोड़ लें तो करीब-करीब सभी राज्यों को मिलाकर 3,00,000 से अधिक ऐसे बच्चे हैं जिनको 90% या उससे ज़्यादा अंक आते हैं।

यह सभी हमारे देश के उच्च प्रतिभा के बच्चे हैं, A1 श्रेणी के बच्चे हैं, जिनकी संख्या लगभग चार लाख प्रतिवर्ष होती है।

अगर हम बात करें मेडिकल,IIT,NIIT एवं अन्य अच्छी क्वालिटी के कॉलेजों की टोटल संख्या की तो अगर हम बात करें IIT की तो प्रति वर्ष भारत में केवल 11,279 सीट्स एडमिशन के लिए खाली होती है। वहीं अगर हम बात करें NIT की तो प्रतिवर्ष 31 NIT संस्थानों को केवल 19,000 सीट्स आवंटित की जाती है। आप देख सकते हैं कि करीब 70 से 80 हजार छात्रों को ही A1 ग्रेड के कॉलेज या अच्छी  शिक्षा मिल पाती है जबकि आप नीट व मेडिकल में अपीयर बच्चों की संख्या को देखेंगे तो तकरीबन 30 लाख बच्चे अपनी ख्वाहिश को पूरा नहीं कर पाते पाते हैं।

अगर हम बात करें ग्रॉस इनरोलमेंट  रेश्यो (GER) की जिसमें उच्च शिक्षा में भारत की स्थिति करीब 25% ही है जोकि विकसित देश चीन के लगभग 45% और यूएस के 85% से काफी कम है।

वहीं अगर हम अपने देश के राज्यों की बात करें तो सिर्फ तमिलनाडु का 46% बच्चे उच्च शिक्षा में एडमिशन ले पाते हैं। जबकि हमारे बिहार की स्थिति काफी दयनीय है जो सभी राज्यों से सबसे कम 15 परसेंट ही है। इस पर विचार करने की आवश्यकता है आइए हम सभी लोग इन सभी तथ्यों को समझें और सरकार तक अपनी बात पहुंचाएं। हमारे देश के बच्चो में बोहोत काबिलियत है। कमी है तो सिर्फ सही सोर्सेज और ईमानदार सिस्टम की जिससे ये बच्चे अपनी काबिलियत के दम परागे बढ़ सके और कुछ बेईमान लोगों के कारण इनकी ज़िन्दगी न रुक जाये।   भ्रष्टाचारी लोगो के कारण ऐसे बच्चो की मेहनत व उनका भविष्य ख़राब न हो, उसके लिए सर्कार तक यह आवाज़ पोहचना बोहोत ज़रूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here