30 जून को शाम 4 बजे देश के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर देश को सम्बोधित किया। सम्बोधन में प्रधान मंत्री ने अनलॉक 2 में प्रवेश करने की बात की। मोदी ने चिंता जताते हुए कहा कि बदलते मौसम में खासी ज़ुखाम जैसी बीमारी हो  सकती है व महामारी के चलते हमें सतर्कता से रहना चाहिए। प्रधान मंत्री ने यह आश्वासन दिलाया कि शुरुआती दिनों में सख्त लॉकडाउन जैसे कड़े कदम उठाने के कारण आज भारत, कोरोना वायरस से लड़ने में सम्भली हुई स्थिति में है।अनलॉक 1 के बाद लोगो में लापरवाही को लेकर प्रधान मंत्री ने चिंता जताई। उन्होने कहा कि सामाजिक दूरी व मास्क को लेकर लोगों में लापरवाही बढ़ती जा रही है। चिंता का विषय यह था कि लोगों में सतर्कता बोहोत काम होती जा रही है और इस मुश्किल समय जींदा रहने व स्वस्थ रहने के लिए सतर्क रहना अति आवश्यक है। कन्टेनमेंट ज़ोन्स या रेड जोन में स्थित लोगो पर यह बात विशेष रूप से लागू होती है।  प्रधान मंत्री ने इस बात पर ज़ोर दिया की आम आदमी से लेकर प्रधान मंत्री तक कोई भी नियमो से ऊपर नहीं है। सम्बोधन में लोगो को यह आश्वासन भी दिलाया कि महामारी के इस मुश्किल दौर में सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि गरीबो के घर में चूल्हा जले व कोई भी देश वासी भूखा न सोये। पी.एम्. का कहना था कि किसी भी प्रकार के फैसले संवेदनशीलता से लेने से उस विपदा से लड़ने की ताक़त और बढ़ जाती है। प्रधान मंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत 20 करोड़ गरीब परिवारों के बैंक खाते में 31,000 करोड़ रूपए की कुल राशि जमा कराइ गयी है। 9 करोड़ किसानो के खाते में 18,000 करोड़ की राशि जमा कराइ गयी व प्रधान मंत्री गरीब कल्याण रोजगार योजना के अंतर्गत गाँवों में बेरोज़गारी की समस्या का समाधान भी दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here