जी हां पहले से ही ये आशंका लगाई गई थी कि कोरोना से संक्रमित मरीज की डेड बॉडी के संपर्क में आने से कोरोना फैल सकता है।क्या ये बात सच है ?चलिए आपको बता दें कि अब साइंटिस्ट ने कोरोना मरीज की डेड बॉडी से संक्रमण फैलने की बात की पुष्टि कर दी है. हम आपको बता दे कि पूरा मामला थाईलैंड का है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, जर्नल ऑफ फॉरेंसिक एंड लीगल मेडिसिन स्टडी ने कहा है कि थाईलैंड में डेड बॉडी की जांच करने वाला एक मेडिकल प्रोफेशनल कोरोना से संक्रमित हो गया. लेकिन यह पहली बार है जब कोरोना संक्रमित डेड बॉडी से किसी व्यक्ति के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है.अभी तक ऐसा और कोई केस नही आया जिसमे कोई व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मरीज की डेड बॉडी के संपर्क में आने के खुद कोरोना संक्रमित हुआ हो।

जर्नल ऑफ फॉरेंसिक एंड लीगल मेडिसिन स्टडी का कहना है कि, मार्च में ही डेड बॉडी के जरिए मेडिकल एग्जामिनर संक्रमित हो गया था।हम आपको बता दें कि इसके बाद वहा अफरातफरी मच गई थी जिसके बाद कुछ समय पहले थाईलैंड के कई फ्यूनरल होम ने तो कोरोना वायरस से पीड़ित मरीज के अंतिम संस्कार के लिए पूरी तरह मना कर दिया था. लेकिन बाद मे वहां दावा किया था कि डेड बॉडी से संक्रमण नहीं फैलता।

हेल्थ एक्सपर्ट ने भी यह चेतावनी दी है कि कोरोना से संक्रमित मरीज की डेड बॉडी के संपर्क में आने वाले सभी लोगों और फ्यूनरल होम में काम करने वालों को भी PPI किट दिए जाएं ताकि उनमे किसी प्रकार का संक्रमण न हो।

 लेकिन WHO के अनुसार कोरोना मरीज की डेड बॉडी से संक्रमण फैलने  की आशंका कम रहती है जब तक मरीज के फेफड़े के संपर्क में आने से बचा जाए।WHO ने कोरोना मरीज के निधन पर अंतिम संस्कार के दौरान पूरी एहतियात बरतने की अपील की है. हालांकि, अब तक इस बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है कि दुनिया में कोरोना संक्रमित डेड बॉडी के संपर्क में आने से कितने लोग कोरोना से संक्रमित हो गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here