बिहार में  लॉकडाउन का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। लगातार बढ़ते खतरे को देखते हुए बिहार सरकार ने लॉकडाउन लगाने का बड़ा फैसला लिया है।  भागलपुर में 5 दिनों के लिए लॉकडाउन करने के बाद पटना में भी लॉकडाउन लागू करने का बड़ा निर्णय लिया गया है।

राजधानी पटना में एक सप्ताह के लिए लॉकडाउन की घोषणा की गई है। पटना के जिलाधिकारी कुमार रवि ने कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए उसकी रोकथाम को लेकर यह बड़ा फैसला लिया है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए डीएम ने बुधवार को अधिकारियों के साथ बैठक की।  इस बैठक में 7 दिनों के लिए पटना में लॉकडाउन की घोषणा की गयी जो 10 जुलाई से लेकर 16 जुलाई तक चलेगा।

पटना में पिछले 24 घंटे में 65 इलाकों में 255 नए मामले सामने आये हैं। इसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भीतीजी, पटना मेयर का बेटा, भाजपा विधायक गायत्री देवी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए है।इनके अतिरिक्त रेलवे हाजीपुर मुख्यालय के मुख्य कार्यालय अधीक्षक समेत 3 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है।  पटना में सबसे ज्यादा प्रभावित पटना सिटी इलाका है. यहां के 37 मुहल्लों में 62 कोरोना के नए मरीज सामने आये हैं।

भागलपुर में भी बढ़ते संक्रमण को लेकर डीएम प्रणव कुमार ने अगले पांच दिनों तक लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है। 9 जुलाई को सुबह 6 बजे से 13 जुलाई तक जिले में लॉकडाउन रहेगा।  इस दौरान जरूरी सेवाएं चालू रहेंगी। राशन और दवा की दुकानें, सरकारी कार्यालय, एटीएम, बैंक, दूध की दूकान और पत्रकारों को छूट दी गई है।  बेवजह बाहर निकले लोगों पर जुर्माना लगाया जाएगा। जिले में अब तक 643 मरीजों की पुष्टि हुई है।  इसमें 452 ठीक हो चुके हैं और पांच लोगों की दुखद मृत्यु हो गयी है। 186 केस अभी एक्टिव है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here